असल में प्यार क्या है – जाने प्यार का मतलब

हेलो फ्रेंड केसे हो, आप लोगो का फिर से स्वागत है हमारे ब्लॉग पर और आज हम love के बारे मे बात करने जा रहे है की, प्यार क्या है”. अगर हम आपसे पूछे की प्यार क्या है?” तो आप 2 मिनिट के लिए सोच मे पड़ जाओगे की, हा यार असल मे प्यार है क्या”. दोस्तो प्यार को आप लिख कर नही बता सकते और ना ही आप सब्दो मे बया कर सकते हो. दोस्तो प्यार को फील किया जा सकता है, ना की बताया जा सकता है. प्यार एक ऐसा अहसास है जो 2 लोगो को आपस मे जोड़ता है और पूरी दुनिया से अलग करता है. आपको प्यार ईज़िली किसी से भी हो जाता है पर एक बारी आप प्यार मे पढ़ गये तो बाहर निकल पाना बहुत मुश्किल हो जाता है. जो इंसान प्यार मे पढ़ गया उसके लिए जिंदगी के सभी दुख, सुख, रिश्तेदार, दोस्त, नीड्स एक तरफ और प्यार एक तरफ है. अगर प्यार की बात करे तो दोस्तो प्यार बहुत अलग अलग types के होते है जेसे की :- दोस्तो के साथ प्यार, अपने आपसे प्यार, फैमिली से प्यार etc etc. तो ऐसे मे प्यार को बता पाना मुस्किल है. नीचे हमने ऐसे ही बहुत सारे बाते बताए है जिसके बारे मे आपको पता होना चाहिए.

asal-me-pyar-kya-hai-jane-pyar-ka-matlb

खुद से प्यार

दोस्तो लाइफ मे किसी से भी प्यार करने से पहले खुद से प्यार करना ज़रूर सीखे तभी आप दूसरो को प्यार कर पाओगे और उन्हे समझोगे. एक इंसान के लिए खुद से प्यार करना बहुत ज़रूरी है. खुद से प्यार करना बहुत आसान है दोस्तों, जब आप कुछ अच्छा काम करे तो खुद को रिवॉर्ड दे, अपने आप को सुंदर बनाए, स्मार्ट दिखे, स्माइल करते रहे, अच्छा काम करे, parents की सुने, बुजुर्गो की इज्जत करे, अपने आप को अच्छी हॅबिट मे डाले. जब आप खुद का अच्छे से ध्यान रख पाएँगे तो समझ ले दोस्तों आपको खुद से प्यार है. जब आप अपने आप को hurt करेंगे, ड्रिंक, स्मोक, आल्कोहॉल का इस्तेमाल करेंगे, अपनी केयर नही करेंगे तो आपको अपने आप से प्यार नही तो दूसरो की क्या केयर करोगे. सो खुद से प्यार करना बहुत जरुरी है.

Feelings वाला प्यार

Feelings वाला प्यार बहुत अजीब होता है. जेसे किसी को फर्स्ट टाइम देख के ही अलग सी फीलिंग्स आने लगती है या सड़क पर पड़े एक कुत्ते के बच्चे को अकेला देख के भी हम इंसानो को फीलिंग्स आने लगती है. मंदिर मे जाते है तो अलग फीलिंग्स आती है, कोई टूर्नामेंट खेलने जाते है तो अलग फीलिंग आती है. सो दोस्तो हमने तो सिर्फ़ कुछ example के थ्रू फीलिंग्स को एक्सप्रेस किया है पर इससे ज़्यादा तो हम एक दिन मे ऐसे 100 फीलिंग्स को फील कर लेते है जो हमे पता ही नही होती है. इस फीलिंग्स के चक्कर मे तो हमे कही ना कही प्यार भी होता है. तो कोई ऐसे भी होते है जिन्हे हर किसी के लिए प्यार मे फीलिंग्स आती है ना की सिर्फ़ एक लिए. तो दोस्तो हम सिर्फ़ ये कहना चाहते है की हम इंसानो के पास फीलिंग्स के भंडार पड़े हुए है जो टाइम से निकलते रहते है.

सच्चा प्यार

सच्चा प्यार बहुत ही तगड़ा पॉइंट है इस आर्टिकल मे. सच्चा प्यार के टाइम पर आपको किसी भी चीज़ की सुध बुध नही रहती है. दोस्तों सच्चा प्यार कब हो जाए आप imagine नही कर सकते हो पर लाइफ के एक पॉइंट मे आप सोचने मे मजबूर हो जाओगे की उस लड़का या लड़की के बिना मे कुछ भी नही. जो आपकी कमियों को पूरा कर आपको पूरा बनाता है वो सच्चा प्यार होता है ओर दोस्तों हमारा यकीन माने सच्चा प्यार बहुत कम लोगो को नसीब होता है ओर कई लोग तो ऐसे होते है जिन्हे आसानी से सच्चा प्यार मिल जाता है पर वो उसकी कदर नही कर पाते है. तो अपने सच्चे प्यार को पहचाने के लिए अपनी आँखे ओर दिल ओर दिमाग़ तीनो को खुला रखे ताकि जब वो पर्सन आपकी लाइफ मे एंट्री मारे ओर आपको एहसास दीलये की yes u r my true love”.

Attraction वाला प्यार

Attraction पहले होता है ओर प्यार बाद मे होता है. अब दोस्तों आपके सामने कोई अट्रॅक्टिव पर्सन खड़ा हो जाए तो आपका अट्रॅक्टिव होना तो लाज़मी है. Attraction बॉडी से रिलेटेड किसी भी पार्ट को देख के हो सकती है जिससे हम attract वाला प्यार कह सकते है. तो किसी की बातो से attraction या फिर किसी की सिर्फ़ स्माइल से attract वाला प्यार भी हो सकता है. तो इसमे हम कह सकते है की attraction वाला प्यार भी हम इंसानो को कई बार ओर हर बार हो सकता है. क्योंकि भगवान की सबसे अच्छी रचना हम इंसान ही है तो attractive होना तो लाज़मी है.

दोस्तो से प्यार

दोस्तों वाला प्यार तो बहुत ही खूबसूरत होता है. अब कुछ लोग सोच रहे होंगे की कैसे? तो हम आपको बताना चाहते है की जिसके पास दोस्त है वो बहुत ही लकी है ओर जिनके पास दोस्त नही है वो अनलकी. क्योंकि दोस्त के होने से लाइफ पूरी होती है. दोस्त की definition ये है की आपका दुख सुख मे साथी, आपके लिए कुछ भी कर जाना, हर situation मे आपके साथ खड़े रहना. दोस्त ऐसे होते है जो आपके लिए काम को पहले करते है ओर सोचते बाद मे है. इसलिए दोस्ती वाला प्यार बहुत खूबसूरत होता है.

फैमिली से प्यार

Family सबके पास होती है पर जिनके पास नही होती उन्हे शायद फैमिली शब्द का मतलब ज़्यादा पता होता है. फैमिली वाला प्यार मे आप ये समझ ले की उनके लिए दुआ निकलती है, एक तरफ हमारे पेरेंट्स जो हमे बढ़ा करते है, प्यार देते है, हमारी केयर करते है. तो दूसरी तरफ हमारे ब्रदर-सिस्टर जो हमारे अधूरे काम को पूरा करने मे लगे रहते है, हमसे लड़ते है, हमारी चुगली पेरेंट्स को कभी कभी कर देते है. फैमिली बस यही पर ही नही खत्म होती. एक इंसान के लिए फैमिली बहुत बड़ी होती है. सो दोस्तों अपनी फैमिली के पास रहिए उन्हे प्यार दीजिए क्योंकि कही ना कही एक फैमिली आप से भी पूरी होती है.

काम से प्यार

दोस्तों जिस काम को आप करने मे लगे हुए है और उसी काम से आपको प्यार ही ना हो तो काम करने का क्या फ़ायदा. हमारा कहने का मतलब ये है की अगर एक जूडो प्लेयर अपनी गेम को ही पसंद ना करता हो उससे प्यार ना करता हो तो उसके गेम करने का क्या मतलब ऐसे तो वो कभी अपनी गेम मे अचीवमेंट हासिल ही नही कर पाएँगे. एक अलग example अगर एक बिजनेसमैन को अपने बिज़नस मे ही इंटेरेस्ट नही होता प्यार नही होता तो उसके बिजनेसमैन बनने का क्या फायदा. तो दोस्तों हम ये कहना चाहते है की काम से प्यार बहुत ज़रूरी है. जब आपको अपने काम से प्यार होता है तो आप अपने टारगेट को अचीव कर पाते है जिससे आपको खुशी मिलती है ओर आपको अपने काम से ओर प्यार होने लगता है.

तो दोस्तो अब आप समझ गये होंगे प्यार की परिभाषा. हमे उम्मीद है की आपको इस आर्टिकल से बहुत कुछ सीखने को मिला होगा और अगर हमसे कुछ मिस हो गया हो तो हमे कॉमेंट करके बताए.

निचे और भी आर्टिकल है इन्हें भी पढिये

loading...

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here