बहादुर कैसे बने – How To Be Brave In Hindi

तो कैसे हो आप लोग, दोस्तों हमारा blogging का सिलसिला बरकरार है और हमे ख़ुशी है कि, आप हमारा साथ दे रहे है. दोस्तों आज का article है कि, “बहादुर कैसे बने”. सबसे पहली बात ये कि, बहादुर कोई जन्म से नहीं बनता बल्कि आपको बहादुर बनाना पड़ता है. Brave बहादुर का ये मतलब नहीं है कि, किसी बात पर जल्दी react करना या लडाई झगडा करना बल्कि इसका ये मतलब होता है कि, life में बहादुरी से new new चीजों को try करना या अगर आपको कोई problem हो तो उसे बहादुरी से solve करना……… इसे कहते है बहादुरी.

अगर हम आप लोगो की बात करे तो आपमें से बहुत से ऐसे भी होंगे जो बहादुर ना हो कर हर चीज़ से डरते होंगे जेसे कि :- school की पढाई से, कुछ नया ना सीखना, बड़ो से डरना, मन में ये डर बैठा लेना कि, ये नहीं हो सकता या negativity का होना etc etc. तो ऐसे में बहादुर brave बन पाना मुस्किल होता है क्योंकि आपने मन में डर बैठा लिया है. जब तक आप डर को बाहर नहीं निकालोगे तब तक आप बहादुर नहीं बन सकते.

दोस्तों अगर आप बहादुर brave बनना चाहते हो तो आपको ये article नीचे तक पूरा पढना होगा. हमने step by step आपको describe में बताया है कि, बहादुर कैसे बना जाता है? So, please check out below for more information………………………………………………………………………………..

बहादुर कैसे बने – How To Be Brave In Hindi

सबसे पहले अपने डर को ढूंढे

इस section में हमने आपको अपने डर को ढूडने के बारे में बताया है. नीचे हर एक step को पढ़े और follow करे. हमे उम्मीद है कि, आपकी कुछ help होगी.

1. ये माने की आप डरते है

कई लोग ऐसे भी होते है जो ये मानने को राजी ही नहीं होते है कि, वो किसी चीज़ से डरते नहीं, अब वो ऐसा क्यु करते है इसके बारे में तो पता नहीं but ऐसे में आप अपना ही नुक्सान करते है. For example :- मान लो कि, आप कुत्तो से बहुत डरते है और जब आप अपने दोस्तों के साथ जा रहे होते है तो दोस्तों के सामने ऐसे react करते है कि, जेसे आप कुत्तो से डरते ही नहीं है. तो ऐसे में आप अपने डर को और बढ़ा रहे होते है, इसका आपको तब पता चलता है जब आप अकेले में कही जा रहे होते हो और रास्ते में आपको कुत्ते मिल जाये. कभी कबार आपका डर आपको इतना डरा देता है कि, आप कुत्तो के डर से घर से बाहर निकलना ही छोड़ देते हो.

जबतक आप ये नहीं मानोगे कि, हा मैं ये करता हु तबतक आप उस चीज़ को सुधार नहीं सकते. तो सबसे पहला काम आपका ये है कि, आपको ये मानना होगा कि, हा मैं डरता हु. इससे क्या होगा कि, आप अपने अन्दर से भी satisfy हो जायेंगे और आपका दिमाग आपको intimate करेगा कि, इससे कैसे बाहर निकला जाये?  

2. अपने डर की एक List बनाये

अब आपका काम ये है कि, अपने डर की एक list बनाये. उस list में आपको छोटे से लेकर बड़े डर की list बनानी है. हो सकता है कि, ये list बनाने में आपको बहुत time लग जाये but dont worry काम पूरा कर के लिये ही दम ले. अगर आपको अपने डर की list बनाने में problem face हो रही है तो dont worry आप किसी की help ले सकते है जेसे कि :- आप अपने डर के बारे में अपने parents से पूछ सकते है या अपने करीबी दोस्तों से पूछ सकते है. हम आपको ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि आपके दोस्त या parents आपको अच्छी तरह से जानते है और पहचानते भी है.

3. अपने डर को Control करे

ये जानना आपके लिए बहुत जरुरी ही कि, आप अपने डर से भाग नहीं सकते. ये भी जान ले कि, आपके आसपास जो हो रहा है उसे आप control नहीं कर सकते but आप अपने आपको control जरुर कर सकते हो. जब भी आपको लगे कि, आप किसी वजह से या चीज़ से डर रहे है तो उसी time उस चीज़ पर focused करे और action ले.

बहादुर बनने के लिये क्या करे

दोस्तों ऊपर हमने आपको डर को दूर करने के लिये कुछ plan बताये थे but अब हम आपको इस section में बहादुर brave बनने के लिये कुछ tips बतायेंगे.

1. लोग क्या बोलते है या क्या सोचते है पहले ये सोचना बंद करे

हमारे समाज में एक बीमारी ने सभी को इतना जकड रखा है कि, इससे निकलना बहुत ही मुस्किल है. और वो बीमारी का नाम है कि “लोग क्या सोचेंगे या बोलेंगे”. आप कुछ भी काम क्यु ना कर रहे हो, कोई ना कोई आपको जरुर ये बोलेगा कि, भाई ये काम बहुत मुस्किल है, देख ले ये काम इतना भी जरुरी नहीं है, भाई अगर ना हुआ तो लग जायेंगे etc etc बाते. ऐसे में क्या होता है कि, आपके अन्दर से जो बहादुरी थोड़ी बहुत निकल भी रही थी वो निकलने से पहले ही खत्म हो जाती है और आपके मन में इस कदर डर बैठ जाता है कि, आप वो कम करने से पहले 100 बार सोचते हो.

तो यहाँ पर हम आपको बस यही कहना चाहते है कि, लोगो की सुनना या वो क्या सोचेंगे ये सब सोचना छोड़ दे. आपको कुछ करना है तो करे, ये सोच कर वो काम करना ना छोड़ दे कि, इससे कोई फायदा नहीं है या अगर गलत हुआ तो? जब आप गलती ही नहीं करोगे तो आप सीखोगे कैसे. गलती कर के ही सीखना बहादुरी कहलाता है.

2. लोगो से Help ले

Life के कई मौड़ पर हम अपने आपको डरा सा या असमंजस सा feel करते है. ऐसे time पर हमे समझ में नहीं आता है कि, अब क्या करे………… तो ऐसे time पर आपको लोगो की help लेनी चाहिये. ऐसे लोग जो आपके हर time करीब रहते हो या आप उनके करीब रहते हो जेसे कि :- आपका परिवार, आपके दोस्त etc etc. इन लोगो से अपनी problems share करे उनसे solution मांगे. इससे क्या होगा कि, आपको problems का हल भी मिल जायेगा और आप अपने आपको brave feel करोगे.

3. अपने Mind को Develop करे

खुद को बहादुर brave बनाने के लिये आपको अपना mind develop करना होता है. हम आपको ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि कभी कबार हमारा mind ही नहीं चलता है और हम उस situation में फसे रहते है, तो अगर आप ऐसा नहीं चाहते है तो आपको अपने mind को strong बनाना होगा. सबसे पहले आपको अपनी पुरानी वाली lifestyle को छोड़ना होगा और new lifestyle को follow करना होगा. Morning में जल्दी उठे और exercise, aerobics, yoga या meditation करे. इससे आपका दिमाग खुलता है और strong बनता है. इसके साथ साथ आपको अपने खान पान पर भी ध्यान देना होगा. अपने daily diet में high protein diet को follow करे और junk food खाने से बचे.

4. Difficult Task करे

अपने आपको बहादुर बनाने के लिये आप difficult task कर सकते है इससे आपका self confidence boost होता है. जिस चीज़ से आपको डर लगता है या आपको लगता है कि, ये काम बहुत मुस्किल है उस काम को task के रूप में करे. अगर आपको पानी से डर लगता है या आपको new new चीज़े try करने से डर लगता है तो आप इसे एक task के रूप में करे और complete करके ही छोड़े. इससे क्या होगा कि, आपका self confidence धीरे धीर बढेगा और next time आप कुछ भी करने एक लिये तैयार रहोगे.

तो दोस्तों आपको हमारा ये article केसा लगा, हमे comment के through बताये. इस article में कुछ भी आपको ऐसा लगे कि, ये नहीं होना चाहिए था या ये भी हो सकता था तो please हमे बताये. अगर आप हमे follow करना चाहते है तो आप Facebook पर हमे follow कर सकते है. Thanks and have a nice day all of you.

Advertisement
loading...

5 COMMENTS

  1. सदैव खुश रहो, क्यों व्यर्थ की चिन्ता करते हो। गीता में श्रीकृष्ण ने बार-बार यही तो कहा – क्यों व्यर्थ चिन्ता करते हो? क्यों व्यर्थ में डरते हो? कौन क्या बिगाड़ सकता है? @जय श्री कृष्णा

  2. भयं निद्रा आहार और मैथुन ये चारो जीवनपर्यन्त हर प्राणी को होता है.. आप नही बच सकते.. किन्तु आप इन्हे कम /ज्यादा कर सकते हैं . भय एक मानसिक स्थिति है..जो आपको स्वयं की रक्षा के लिए बुद्थि को तीव्र बनाकर अतिरिक्त कार्य करने के लिए दबाव बनाती है फलस्वरूप हम असहज महसूस करते है.. भय कई तरह का होता है.1-. मान सम्मान खोने का भय( अर्थात आप कुछ गलत कर रहे है जो आपके नही करना चाहिए या आप एेसी नौकरी करते है जिसकी योग्यता आप नही रखते ) तो गलत कामो से बचें/ और नौकरी मे योग्यता निखारें यदि निखारना असंभव लगे तो अपना मनपसंद कार्य पुनः चुने.2- जीवों से भय ( सांप कुत्ता या किसी भी जीव का डर से बचने के लिए आप उनका सामना करे/ हो सके तो उनसे प्रेम करें वे ईश्वर की बनायी सृष्टि का हिस्सा है यदि ये भी ना कर सकें तो फिर उनसे दूर तो रह ही सकते है .3 – भविष़्य का भय( कल क्या होगा ये भय हमारे आज को डरा के रखता है ) मन के 80% विचार अतीत के व 20% विचार भविष्य के चलते है हम वर्तमान मे जी ही नही पाते ..विचार दृष्टा बने हर नकारात्मक विचार पर नजर रखें. आज मे जीना सीखें .. खुद के लिए समय निकाले ध्यान करें ( जय श्री कृष्णा )

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here