Meditation क्या है और कैसे करे

दोस्तो गुरुमंत्र.कॉम के ब्लॉग पर आपका स्वागत है और आज हम बात करने जा रहे है मेडिटेशन के बारे मे की, Meditation क्या है और कैसे करे”. इस भाग दौड़ वाली दुनिया मे बहुत से लोगो को मेडिटेशन के बारे मे पता ही नही है. एक चोका देने वाली बात ये है की मेडिटेशन हमारे भारत से ही जन्मी है और आपको ये सुन के हेरानी होगी की मेडिटेशन हमारे भारत मे बहुत कम किया जाता है. आप यकीन नही मनोगे की foreign country मे मेडिटेशन और योगा बहुत प्रचलित है और foreign की आधी से ज़्यादा population mediation और योगा करती है. है ना चोका देने वाली बात. वेसे जिन लोगो को मेडिटेशन के बारे मे नही पता है तो हम बता देते है की ये है क्या? मेडिटेशन को हिन्दी मे ध्यान कहते है. ध्यान तो आपको समझ ही आगया होगा की किसको बोलते है. माना जाता है की अगर आप ध्यान regular करते है तो आपका मन शांत और सुखी होता है. अब इस बात मे कितनी सच्चाई है ये तो पूरा आर्टिकल पढ़ने के बाद ही पता चलेगा. So, please check out below for more information…………………………………………………………………………..

meditation-kya-hai-aur-kaise-kare

मेडिटेशन Meditation (ध्यान) है क्या?

जेसा की हमने आपको उपर भी बताया था की मेडिटेशन को हिन्दी मे ध्यान” कहते है. असल मे ध्यान है क्या? लोग ध्यान क्यों करते है? ध्यान करने से होता क्या है? इस टाइप के सवाल आपके मन मे आरहे होंगे. चलो अब सीधा बात करते है मेडिटेशन की मेडिटेशन असल मे होता क्या है? माना जाता है की हमारे भगवान और पुराने ऋषि मुनि बहुत ध्यान किया करते थे. सब का मानना था की ध्यान करने से आपका मन शांत होता है और आपको बहुत ज्ञान की प्राप्ति होती है. अब आप हमे एक बात बताइए की इंसान सोता क्यों है? हमारे हिसाब से बहुत कम लोगो को पता होगा की इंसान जब सोता है तब वो कुछ पॉवर इक्कठी करता है उस पॉवर को बोलते है विश्व-शक्ति. तभी तो इंसान अगले दिन अपने आपको तरो ताज़ा फील करता है.

पर कुछ रिसर्च से पता चला है की जब इंसान सोता है तब वो कम पॉवर इक्कठा करता है जिस कारण इंसान ज़्यादा डिप्रेशन, स्ट्रीस फील करता है. अगर यही बात हम आपको कहे की एसा भी होता है तो आप कहोगे की, क्या बकवास कर रहा है ये, एसा कुछ नही होता है”. आपका कहना भी सही है जब आपने ऐसे किसी चीज़ के बारे मे सुना नही है तो आपके लिए तो बकवाश ही होगी. तभी इंडिया मे मेडिटेशन और योगा का क्रेज़ कम है. Foregin country मे तो लोगो ने खुद feel करा है इसके power के बारे मे, तभी तो वहा पर इन चीज़ो की value ज़्यादा है. But अब इंडिया मे भी मेडिटेशन और योगा का क्रेज़ धीरे धीरे बढ़ रहा है. अब बात करते है की विश्व-शक्ति है क्या? माना जाता है की जब आप मेडिटेशन या ध्यान कर रहे होते है तब आपको विश्व-शक्ति मिलती है, जिससे आप अपने आपको बहुत better feel करते हो. विश्व-शक्ति एक शक्ति होती है जो आपको बहुत एनर्जी प्रवाइड करती है. चलो अब नीचे की तरफ चलते है और बात करते है की, क्या मेडिटेशन आपके लिए सही है”.

क्या मेडिटेशन Meditation आपके लिए सही है?

अगर आप कही पर seminar या किसी को मेडिटेशन के बारे मे समझा रहे हो तो ज़्यादा से ज़्यादा लोग यही सवाल पूछेंगे की, भैया क्या मेडिटेशन सही होता है क्या”. एक तो यार हमारे इंडिया मे लोग किसी चीज़ को जल्दी से करते नही, उपर से सवाल ऐसे पूछते है की जेसे की बहुत सीरीयस है इस चीज़ के उपर. तभी तो foreign country हमारे से बहुत आगे है, उन लोगो को कोई नयी चीज़ के बारे मे पता चल जाए, उसी टाइम वो चीज़ करने मे लग जाते है. और एक हमारे यहा के लोग, पहले उस चीज़ के बारे मे बात, सलाह, मशवारा करेंगे, अपने अपने आइडिया देंगे और लास्ट मे कहेंगे की, ना भैया इससे कुछ नही होगा”.

But हमे बताते हुए खुशी हो रही है की आज के generation के लोग मैडिटेशन और योगा के बारे मे विश्वाश करते है, अरे भैया करे भी क्यों ना foreign contry वाले मज़े जो ले रहे है मेडिटेशन और योगा के. चलो अब बात करते है की क्या मेडिटेशन आपके लिए सही है? अगर आपको यही जानना है तो हा भाइयो मैडिटेशन आपके लिए बहुत सही है कुछ दिन कर के तो देखो अपने आप पता चल जाएगा.

कब मेडिटेशन करना चाहिए?

हा तो भैया अब बात करते है की,”मेडिटेशन कब करना चाहिए”. मेडिटेशन को आप सौर गुल मे नही कर सकते आपको मैडिटेशन करने के लिए शांत एरिया चाहिए होता है, जहा पर आप मेडिटेशन या ध्यान आसानी से कर सकते हो. अगर आप हम से पूछे की मेडिटेशन करने का best time क्या होता है? तो Morning का टाइम सबसे बेस्ट होता है. होता यू है की जब आप मॉर्निंग मे उठते हो तो आपका माइंड शांत होता है तब आप मेडिटेशन कर सकते हो. इस टाइम पर आपका focus बहुत जल्दी लगता है और आपको जल्दी फायदा मिलता है. कई लोग तो मेडिटेशन को रात को सोने से पहले करना पसंद करते है. ये टाइम भी ठीक है, रात को वेसे भी सौर गुल कम रहता है but होता क्या है की जब आप रात मे मेडिटेशन के लिए बैठे हो तो आपका माइंड मे बहुत विचार चलते रहते है ऐसे मे मेडिटेशन करना बहुत मुस्किल हो जाता है, ये हमारा अपना personal experience है. तो मेडिटेशन करना का बेस्ट टाइम मॉर्निंग के टाइम है.

मेडिटेशन कैसे करे?

  1. टाइम का तो हमने आपको बता दिया की किस टाइम पर मेडिटेशन करना चाहिए, बाकी आपकी मर्ज़ी है की आपको कोन सा टाइम सही लगता है.
  2. मेडिटेशन करने के लिए आराम वाली जगह चुने, या तो आप बैठ कर कर सकते है, या आप कुर्सी पर बैठ कर कर सकते है, या तो बेड पर लेट कर कर सकते है. एसा कुछ नही है की मैडिटेशन आपको बैठ कर करना चाहिए. आपको जहा पर आराम आराह है वाहा पर कर सकते है. But अगर हम भगवान या ऋषि मुनीओ की बात करे तो सभी बैठ कर मेडिटेशन करते थे, तो ज़्यादातर लोग मैडिटेशन बैठ कर करना पसंद करते है.
  3. जब आप बैठ जाए तो अपने दोनो आखो को बंद कर ले. कान मे ज़्यादा आवाज़े ना आए तो आप रोकने के लिए कान मे रूई फसा सकते है.
  4. अब इतना सब कुछ करने के बाद ध्यान लगाइए मतलब् बाहर की किसी भी चीज़ो के बारे मे मत सोचिए और सिर्फ़ एक चीज़ पर focus करिये. एक ही चीज़ पर focus करने के लिए आप अपने सास का सहारा ले सकते है. सिर्फ़ सास छोड़ते और लेते पर ध्यान दे.
  5. अगर आपको कभी लगे की आप ध्यान से भटक रहे है मतलब् कुछ ना कुछ आपका माइंड सोच रहा है तो टेंशन ना ले और उसी टाइम माइंड पर सोचना बंद दे. माना की जब आप माइंड मे सोचना बंद कर देते हो तो कुछ देर बाद फिर सोचते हो. स्टार्टिंग मे एसा कुछ दीनो तक चलता रहेगा पर बाद मे आप ध्यान करना स्टार्ट कर दोगे. हर रोज 20 मिनट मेडिटेशन कीजिए.
  6. कभी कबार क्या होता है की जब आप ध्यान कर रहे होते तो आपको लगता है की आप टेढ़े मतलब् उल्टा हो रहे हो या आप ज़मीन से उपर हो. ऐसे टाइम पर आखे मत खोले मिडियेशन जब आप आखे खॉलोगे तब आप देखोगे की आप एक दम सीधे बैठे हो वो सब आपका वहम था.

मेडिटेशन के बाद क्या होता है?

वेसे तो हमे बताने की ज़रूरत नही है की मेडिटेशन करने के बाद क्या होता है? वो तो आपको खुद ही पता चल जाएगा. असल मे मेडिटेशन करने से आपको एक एनर्जी मिलती है जो आपके डेली लाइफ मे जीने मे हेल्प करते है. मेडिटेशन करने के बाद आप अपने आपको को बहुत ही relax फील करते हो, आपके अंदर इतना confidence आजाता है की आप कोई भी काम कर सकते हो ऐसी feeling आपके मन मे आती है.

तो फ्रेंड्स आपको हमारा ये आर्टिकल केसा लगा हमे कॉमेंट करके बताइए और हा यार इस आर्टिकल को जितना हो सके उतना शेयर करे सोशियल मीडीया साइट्स पर. Take care and have a nice day.

निचे और भी आर्टिकल है इन्हें भी पढिये

loading...

22 COMMENTS

  1. me dhyan pe jyada focus ni kar pa raha hu
    muh me Pani nigal na pad raha hai galese
    thode thode time pe
    muh se pani nigal nese muh me aavaj aati hai so me disturb hojata hu
    me koi bhi gutaka pan masala Kuch bhi nahi khata fir bhi
    me Kya kar sakata hu

  2. sir
    meditation me sir ak hi chij pe focus karna hota hai. to vo ham ak chij koi sans pe dhyan dena or usake alava konasi chij pe dhyan desakate hai
    I know sans pe dhyan dena better hai

  3. sir muje nahi problem ho Rahi hai meditation karte vakt ki muje Gale se niche pani (silva ) utar Na pad Raha hai bar bar gala suk ne lagata hai or muh me Silva nigalana padata hai Kya meditation me Silva gale se utarana have hota hai ki nahi
    agar aap ke experience me a bat Hoti hai to Kuch batayiye
    agar me muh me se silva Na utaru to gale me dard hota hai Kya silva nigalate nigalate meditation Kiya jata hai ya silva nahi nigalani Hoti hai
    me meditation me yahi chij se disturb ho jata hu

    • Ha bro kiya ja sakta hai yar. Starting me aapko esi aur bhi problme hogi meditation karte wakt but baat me aapko koi problem nahi hoyegi. Tension na le continue karo meditation.

  4. third eye Sach me hoti hai kya
    mene suna hai jisaki third eye active ho gai vo akkho pe patti bandh ke sirf filling se piche ki chij ko bhi Dekh sakate hai kya
    aayesa kuch hota hai ya
    fir sirf apana mind fresh and active Karne ke lia meditation Kiya jata hai

  5. jb bhi mai koi dravna spna dekhta hun..or dr kr aanke kholta hun..mere muh se jo sbd niklte hai vo hote hai Stnam shree vahe guru..to kya mai Om ki jgh .. ye sbd bolkr mediataion kr skta hun….
    .

    • neeraj ji, ha aap kar sakte ho………………………. isse koi farak nahi padta hai ki aap kya karte ho………….. bs aapka mann us kaam ko karne ke liye saaf hona chahiye.

  6. Mujhe bhi meditation Karna pasnd he but mujhse meditation hota nhi meditation karte time mind me Jane kya Jane kya khyal aate he.
    ……

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here